World History: Unification of Germany | विश्व इतिहास: जर्मनी का एकीकरण

Facebook
Telegram
WhatsApp
LinkedIn
    • जर्मनी का एकीकरण बिस्मार्क ने किया । बिस्मार्क प्रशा के शासक विलियम प्रथम का प्रधानमंत्री था।
    • जर्मनी का सबसे शक्तिशाली राज्य प्रशा था।
    • बिस्मार्क जर्मनी का एकीकरण प्रशा के नेतृत्व में चाहता था।
    • विलियम को जर्मन संघ के सम्राट् का ताज 8 फरवरी, 1871 ई० में पहनाया गया।
    • बिस्मार्क को सबसे अधिक भय फ्रांस से था।
    • जर्मनी में राष्ट्रीयता का संदेशवाहक नेपोलियन बोनापार्ट को माना जाता है।
    • जर्मनी के आर्थिक राष्ट्रवाद का पिता फ्रेडरिक लिस्ट को माना जाता है।
    • जर्मनी राष्ट्रीय सभा को डायट के नाम से जाना जाता था, यह फ्रेंकफर्ट में होती थी।
    • 1815 ई० से 1850 ई० के बीच जर्मन साम्राज्य पर आस्ट्रिया का आधिपत्य था।
    • आस्ट्रिया का चान्सलर मेटरनिख था।
    • एकीकृत जर्मन राष्ट्र के निर्माण में राके, बोमर, लसर इत्यादि दार्शनिकों ने महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई।

 

  • फ्रैंकफर्ट संविधान सभा का गठन मई, 1848 ई० में किया गया।
  • विलियम प्रथम के शासनकाल में प्रशा का रक्षामंत्री वानरून एवं सेनापति वान माल्टेक था।
  • 23 सितम्बर, 1862 ई० को बिस्मार्क प्रशा का चांसलर बना।
  • बिस्मार्क का जन्म 1 अप्रैल, 1815 ई० को ब्रेडनबर्ग में हुआ था।
  • विलियम प्रथम ने बिस्मार्क को बाजीगर कहा था।
  • सेरेजोवा का युद्ध में 1866 ई० में आस्ट्रिया ने प्रशा के आगे आत्मसमर्पण कर दिया।
  • 23 अगस्त, 1866 ई० के प्राग संधि के तहत आस्ट्रिया जर्मन संघ में शामिल हुआ।
  • फ्रांस एवं प्रशा के बीच सेडान का युद्ध 15 जुलाई, 1870 ई० को हुआ।
  • नेपोलियन तृतीय ने प्रशा के आगे 1 सितम्बर, 1870 को आत्मसमर्पण किया।
  • बिस्मार्क ने जर्मनी के सम्राट विलियम प्रथम का राज्याभिषेक वर्साय के राजमहल में किया।
  • फ्रैंकफर्ट की संधि 10 मई , 1871 ई० को फ्रांस और प्रशा के बीच हुई।
  • सूडान के युद्ध के बाद जर्मनी का एकीकरण संभव हो सका।

World History: Russian Revolution | विश्व इतिहास: रुसी क्रांति

  • फ्रांस की राज्यक्रांति 1789 ई. में लुई सोलहवाँ के शासनकाल में हुई। इस समय फ्रांस में सामन्ती व्यवस्था थी।
  • समाजवाद शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम रॉबर्ट ओवेन ने किया था। वह वेल्स का रहनेवाला था।
  • आदर्शवादी समाजवाद का प्रवक्ता रॉबर्ट ओवेन को माना जाता है।
  • वैज्ञानिक समाजवाद का संस्थापक कार्ल मार्क्स था । कार्ल मार्क्स जर्मनी का निवासी था।
  • कार्ल मार्क्स ने दास कैपिटल और कम्युनिस्ट मैनीफेस्टो नामक पुस्तक लिखी है।
  • फ्रांसीसी साम्यवाद का जनक सेंट साइमन को माना जाता है।
  • फेबियन सोशलिज्म का नेतृत्व जॉर्ज बर्नाड शॉ ने किया।
  • लंदन में फेबियन सोसायटी की स्थापना 1884 ई. में हुई।
    • ‘दुनिया के मजदूरों एक हो’ का नारा कार्ल मार्क्स ने दिया ।
    • रूस के शासक को ‘जार’ कहा जाता था। यह जारशाही व्यवस्था मार्च, 1917 ई. में समाप्त हुई।
    • जार मुक्तिदाता के नाम से अलेक्जेंडर द्वितीय को जाना जाता है।
    • रूस का अतिम जार शासक जार निकोलस द्वितीय था।
    • 1917 ई. में हुई रूसी क्रांति का तात्कालिक कारण प्रथम विश्वयुद्ध में रूस की पराजय थी।
    • 7 नवम्बर, 1917 ई. की वोल्शेविक क्रांति का नेता लेनिन था।
    • लेनिन ने चेका का संगठन किया था।
    • लाल सेना का संगठन ट्राटस्की ने किया था।
    • रूस के जार शासक अलेक्जेंडर द्वितीय की हत्या बम विस्फोट में हुई।
    • एक जार, एक चर्च और एक रूस का नारा जार निकोलस द्वितीय ने दिया था।
    • रूस में सबसे अधिक जनसंख्या स्लाव  लोगों की थी।
    • अन्ना कैरेनिना के लेखक लियो टाल्सटाय था।
    • शून्यवाद का जनक तुर्गनेव को माना जाता है।
    • रूसी साम्यवाद का जनक प्लेखानोव को माना जाता है।
    • ]सोशल डेमोक्रेटिक दल की स्थापना 1903 ई. में रूस में हुई।
  • यह दल दो गुटों में विभाजित था वोल्शेविक और मेन्शेविक ।
  • वोल्शेविक का अर्थ ‘बहुसंख्यक’ एवं मेन्शेविक का अर्थ ‘अल्पसंख्यक’ होता हैं।
  • वोल्शेविक दल का नेता लेनिन था।
  • 16 अप्रैल, 1917 ई. में लेनिन ने रूस में क्रांतिकारी योजना प्रकाशित की, जो ‘अप्रैल थीसिस’ के नाम से जानी जाती है।
  • 1921 ई. में लेनिन ने रूस में नई आर्थिक नीति लागू की।
  • आधुनिक रूस का निर्माता स्टालिन को माना जाता है।
  • लेनिन की मृत्यु 1924 ई. में हो गयी। 
  • ‘राइट्स ऑफ मैन’ का लेखक टॉमस पेन है।
  • ‘मदर’ की रचना मैक्सिम गोर्की ने की।
  • स्थायी क्रांति के सिद्धांत का प्रवर्तक ट्राटस्की था।
  • प्रथम विश्वयुद्ध के दौरान लेनिन का नारा था ‘युद्ध का अन्त करो’ ।
  • कार्ल मार्क्स का आजीवन साथी रहा–फ्रेडरिक एंजेल्स।

1 thought on “World History: Unification of Germany | विश्व इतिहास: जर्मनी का एकीकरण”

Leave a Comment