PV Sindhu Biography in hindi

Facebook
Telegram
WhatsApp
LinkedIn

PV Sindhu Biography in hindi पीवी सिंधु एक भारतीय बैटमिंटन खिलाडी है इन्होने अन्तराष्ट्रीय ओलंपिक में रजत पदक जीतकर पहली भारतीय महिला होने का रिकॉर्ड बनाया है।

सिंधु पहली भारतीय महिला खिलाडी है जिन्होंने वर्ल्ड चैंपियनशिप में जीत हासिल की है इसके अलावा वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप के फाइनल में शानदार जीत दर्ज करके पहली बार इस ख़िताब को प्राप्त किया है

फोर्ब्स पत्रिका के अनुसार सिंधु साल 2018 एवं 2019 में सबसे ज्यादा कमाई ($8.5 मिलियन एवं 5.5 मिलियन ) करने वाली महिला एथलीटों की सूची में अपनी जगह बनाई है।

साल 2021 में आयोजित टोक्यो ओलिंपिक में पी.वी. सिंधु ने कांस्य पदक जीता और अपने देश का नाम रोशन किया।

पूरा नाम (Full Name) पुसरला वेंकट सिंधु
जन्म (Birth) 05-जुलाई-95
उम्र (Age) 26 साल (2021)
जन्म स्थान (Birth Place) हैदराबाद, भारत
राष्ट्रीयता (Nationality) भारतीय
गृहनगर (Hometown) हैदराबाद, भारत
शिक्षा (Education) एमबीए
स्कूल (School )  ऑक्सिलियम हाई स्कूल, सिकंदराबाद
कॉलेज (College) सेंट एन कॉलेज फॉर विमेन, मेहदीपट्टनम
राशि (Zodiac Sig) कैंसर
कद (Height) 5 फीट 10.5 इंच
वजन (Weight) 65 किलो
शारीरिक माप (Body Measurement) 34-26-36
आंखों का रंग (Eye Colour) काला
बालों का रंग (Hair Colour) काला
सबसे ऊंची रैंकिंग (highest ranking) 9 (मार्च 2014 में)
कोच (Coach ) पुलेला गोपीचंद
पेशा (Profession) भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी
शुरुआत (International Debut ) 2009 सब-जूनियर एशियाई बैडमिंटन चैंपियनशिप कोलंबो में
वैवाहिक स्थिति (Marital Status)   अविवाहित

पीवी सिंधु के पति का नाम (PV Sindhu husband name )

काफी लोगो का सवाल उनके पति के बारे में होता है लेकिन पीवी सिंधु अभी तक सिंगल है उनकी शादी नहीं हुई है।

पीवी सिंधु का जन्म एवं शुरुआती जीवन (Pv sindhu Birth & Early Life  )

पीवी सिंधु उर्फ़ पुसरला वेंकट सिंधु का जन्म 5 जुलाई 1995 को पिता का नाम पीवी रमाना और माँ का पी. विजया के यहाँ हैदराबाद में हुआ था इनके पिता एशियाई खेलो में भारत की तरफ से खेलते हुए साल 1986 में वॉलीबॉल में कांस्य पदक जीत चुके है

पीवी सिंधु ने अपनी शुरूआती पढ़ाई ऑक्सिलियम हाई स्कूल, सिकंदराबाद प्राप्त की जो की हैदराबाद में स्तिथ है और आगे की पढ़ाई के लिए इन्होने सेंट एन कॉलेज फॉर विमेन, मेहदीपट्टनम, हैदराबाद में दाखिला लिया और MBA की डिग्री प्राप्त की।

इनके माता पिता वॉलीबॉल खेल राष्ट्रीय स्तर पर भारत के लिए खेल चुके है लेकिन पीवी सिंधु झुकाव वॉलीबॉल खेल की तरफ ना होकर बैडमिंटन की तरफ था इसका मुख्य कारण बने पुल्लेला गोपीचंद जो साल 2001 में आल इंग्लैंड ओपन बैडमिंटन चैंपियन बने थे पीवी सिंधु ने मात्र आठ साल बैडमिंटन खेलना शुरू कर दिया था।

पीवी सिंधु की बैडमिंटन गेम की ट्रेनिंग (Pv sindhu badminton game Training )

पीवी सिंधु बैडमिंटन महारत हासिल करने के लिए शुरूआती ट्रेनिंग की जरुरत थी जिसके लिए इन्होने इंडियन रेल्वे इंस्टिट्यूट ऑफ़ सिग्नल इंजीनियरिंग एंड टेलीकम्यूनिकेशन में दाखिला ले लिया जो की सिकंदराबाद स्तिथ था और वह पर इन्होने महबूब अली से बैडमिंटन की कुछ मुख्य बातें सीखी और अपने खेल में निखार लायी।

बैडमिंटन गेम की आगे की ट्रेनिंग लेने के लिए इन्होने अपने मार्गदर्शक और अपने गुरु पुलेला गोपीचंद की गोपीचंद बैडमिंटन अकादमी में शामिल हो गयी।

किसी खिलाडी के सफल होने का पता उसके जूनून से लगाया जा सकता है और ये जूनून पीवी सिंधु में कूट कूट के भरा था इसका इस साधारण से उदहारण है –

Leave a Comment