प्रथम विश्व युद्ध

Facebook
Telegram
WhatsApp
LinkedIn
प्रथम विश्व युद्ध (WWI या WW1 के संक्षिप्त रूप में जाना जाता है) यूरोप में होने वाला यह एक वैश्विक युद्ध था जो 28 जुलाई 1914 से 11 नवंबर 1918 तक चला था। इसे महान युद्ध या “सभी युद्धों को समाप्त करने वाला युद्ध” के रूप में जाना जाता था।
 

30 से ज्यादा देश लड़े: प्रथम विश्व युद्ध में 30 ज्यादा देश शामिल हुए। इसमें दो धुरी थी। एक ओर 17 से ज्यादा मित्र देश थे, जिनमें सर्बिया, ब्रिटेन, जापान, रूस, फ्रांस, इटली और अमेरिका आदि थे। दूसरी ओर सेंट्रल पावर जर्मनी, ऑस्ट्रिया, हंगरी, बुल्गारिया और ऑटोमन साम्राज्य था

प्रथम विश्व युद्ध के कारण एवं परिणाम : प्रथम विश्व युद्ध 28 जुलाई, 1914 से 11 नवंबर 1918 तक चलने वाला विश्वव्यापी युद्ध था। इस युद्ध को ग्लोबल वॉर  ग्रेट वॉर’ भी कहा जाता है। प्रथम विश्व युद्ध में मित्र राष्ट्र और धुरी राष्ट्र दो खेमों में बंट गए थे। जिसमें मित्र राष्ट्रों का नेतृत्व इंग्लैंड, जापान, संयुक्त राज्य अमेरिका, रूस तथा फ़्रांस जैसे अन्य देशों द्वारा किया गया था तथा धुरी राष्ट्रों का नेतृत्व जर्मनी, ऑस्ट्रिया हंगरी और इटली जैसे देशों ने किया था।

4 वर्षों तक चलने वाले इस विश्व युद्ध में 36 देशों के लगभग 6.5 करोड़ लोगों ने हिस्सा लिया था जिसमें मित्र राष्ट्र के 60 लाख व धुरी राष्ट्र के 40 लाख सैनिकों की मृत्यु हो गई थी। प्रथम विश्व युद्ध दुनिया की सबसे विनाशकारी एवं भयानक घटनाओं में से एक थी जिसमें निर्दोष नागरिकों और बहुत से लोगों को अपना जीवन त्यागना पड़ा था।

ऐसा माना जाता था की प्रथम विश्व युद्ध सभी युद्धों का अंत कर देगा परन्तु ऐसा नहीं हुआ इसके बाद भी द्वितीय विश्व युद्ध हुआ। मशीन गन, टैंक्स, पानी के अंदर चलने वाले यानों का सबसे पहले उपयोग इसी युद्ध में किया गया था। प्रथम विश्व युद्ध में लगभग सभी राष्ट्रों में देशभक्ति की भावना उत्पन्न हुई और उन्होंने अपने राष्ट्र के विस्तार के लिए इस युद्ध में भाग लिया। Causes and consequences of the First World War in hindi.

1 thought on “प्रथम विश्व युद्ध”

Leave a Comment