Breaking News: Bihar में छात्रों के हंगामे के मामले में Khan Sir पर FIR

Facebook
Telegram
WhatsApp
LinkedIn

आरआरबी एनटीपीसी रिजल्ट (RRB NTPC Result) का मामला लगातार गर्माता जा रहा है. पिछले कई दिनों से बिहार के अलग-अलग जगहों पर ट्रेनों को रोके जाने और पटरियों को जाम करने की घटनाएं सामने आई हैं. इसी बीच, चर्चित खान सर (Khan Sir) समेत कई संस्थानों के मालिकों समेत 400 से अधिक लोगों के खिलाफ पटना में एफआईआर दर्ज की गई है.   

खान सर के अलावा इन लोगों के खिलाफ दर्ज हुआ केस
जानकारी के मुताबिक, खान सर (Khan Sir) के अलावा एसके झा सर, नवीन सर, अमरनाथ सर, गगन प्रताप सर, गोपाल वर्मा सर और बाजार समिति के कई कोचिंग संचालकों के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया है. इन सभी के खिलाफ आईपीसी की धारा 147, 148, 149, 151, 152, 186, 187, 188, 330, 332, 353, 504, 506 और 120-बी के तहत केस दर्ज हुआ है.

टीचर्स के खिलाफ क्यों हुई कार्रवाई
बाताया जा रहा है कि इस टीचर्स के खिलाफ हिरासत में लिए गए आंदोलनकारी छात्रों के बयान के आधार पर केस दर्ज किया गया है. हिरासत में लिए गए आंदोलनकारी उम्मीदवारों ने कहा है कि सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल होने के बाद उन्हें हिंसा और दंगा करने की शह मिली थी, जिसमें खान सर को कथित तौर पर आरआरबी एनटीपीसी परीक्षा रद्द नहीं होने पर छात्रों को सड़क पर आंदोलन करने के लिए उकसाते हुए देखा गया था.

खान सर ने जारी किए बयान
वहीं, केस दर्ज होने के बाद खान सर ने इस मामले में सफाई दी है. उन्होंने बयान जारी कर कहा है कि कि RRB ने जो अभी फैसला लिया है, अगर वो 18 तारीख को ले लिया जाता, तो यह नौबत नहीं आती. लेकिन एक अच्छा कदम यह उठाया है कि 16 फरवरी तक स्टूडेंट से सुझाव मांगा है.

कौन हैं खान सर?
काबिले ज़िक्र है कि खान सर एक पॉपुलर कोचिंग टीचर हैं जो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म यूट्यूब पर खान जीएस रिसर्च सेंटर (Khan GS Research Centre) चलाते हैं और अपनी मुंफरिद तालीमी लियाकत के लिए भी जाने जाते हैं. अलग अलग प्लेटफार्म पर उनके लाखों फॉलोवर्स हैं. इससे पहले खान सर अपने हिंदू या मुस्लिम विवाद को लेकर सुर्खियों में आए थे. 

क्या है मामला
दरअसल, रेलवे भर्ती बोर्ड (आरआरबी) की तरफ से नॉन टेक्नीकल पॉपुलर कैटेगरी (एनटीपीसी) भर्ती सीबीटी-1 एग्जाम के रिजल्ट 14 व 15 जनवरी, 2022 को जारी किए गए थे. इस रिजल्ट की बुनियाद पर दूसरे चरण के इम्तिहान के लिए उम्मीदवारों शॉर्टलिस्ट किया गया है. इस पर उम्मीदवारों ने आरोल लगाया है कि एनटीपीसी के नतीजे में धांधली हुई है और उम्मीदवार लगातार जांच की मांग कर रहे हैं.