crossorigin="anonymous"> गोवर्धन पूजा पर निबंध » Khan Sir Official
गोवर्धन पूजा पर निबंध

भारत त्योहारों का देश है और यहाँ पर देश के अलग-अलग हिस्सों में आप हर दिन एक नया त्यौहार पायेंगे। इसी तरह से, दिवाली भी हिन्दुओं के सबसे बड़े त्यौहार में से एक है और यह समूर्ण राष्ट्र में मनाया जाता है। हालाँकि यह एक दिन का त्यौहार होता है, लेकिन इसके साथ-साथ 5 अन्य त्योहार भी मनाये जाते हैं जिनमे से एक है गोवर्धन पूजा। इस विषय पर आज हम आपके लिए कुछ निबंध लेकर आये हैं ताकि आप इसके बारे में और भी विस्तार से जान सकें।

गोवर्धन पूजा एक भारतीय त्योहार है जो दिवाली के बाद मनाया जाता है। यह दिवाली के बाद दूसरे दिन मनाया जाता है। यह ज्यादातर राष्ट्र के उत्तरी हिस्से में मनाया जाता है। इसे अन्नकूट पूजा के साथ-साथ गोवर्धन पूजा के रूप में भी जाना जाता है।

इस अवसर पर, हर वर्ष लोग इस दिन को बहुत उत्साह के साथ मनाते हैं। देवी अन्नपूर्णा को प्रभावित करने के लिए बड़ों के साथ-साथ बच्चे भी जल्दी स्नान कर लेते हैं और इस दिन 56 से भी अधिक प्रकार की विभिन्न वस्तुएँ बनाई जाती हैं।

लोग पवित्र गाय माता की पूजा करते हैं और इस दिन को मनाते हैं। जब गोवर्धन पर्वत को बचाया गया था तो लोगों नें खुशी जताई कि उनके भोजन का स्रोत बच गया है; और श्रद्धांजलि के रूप में, लोग भोजन की देवी यानी माँ अन्नपूर्ण को विभिन्न प्रकार की खाद्य सामग्री प्रदान करते हैं।

गोवर्धन पूजा में क्या है खास?

गोवर्धन पूजा हमें बहुत सी चीजें सिखाता है और उसमे सबसे पहली चीज है, हमेशा वही करना जो सही हो और भगवान किसी भी कीमत पर हमेशा आपकी मदद करेंगे।

हमें हमेशा अपने अवसरों का जश्न मनाना चाहिए और यह मान्यता है कि हमें इस दिन खुश होना चाहिए क्योंकि जो लोग त्यौहार के दिन दुखी होंगे वे पूरे वर्ष दुखी रहते हैं, जबकि जो लोग इस दिन खुश रहेंगे, वे पूरे वर्षभर खुश रहते हैं।

गोवर्धन पूजा का महत्व

यह त्यौहार देवराज इंद्र पर भगवान कृष्ण की विजय के अवसर पर मनाया जाता है। असल में, यह भगवान विष्णु थे जिन्होंने इस क्रूर दुनिया में कृष्ण के रूप में अवतार लिया। उन्होंने लोगों को राक्षसों से बचाने के लिए जन्म लिया। उन्होंने बीच-बीच में विभिन्न कार्य भी किए और उन सभी का उल्लेख हमारी प्राचीन पुस्तकों में किया गया है।

भगवान कृष्ण ने लोगों से पहाड़ की पूजा करने के लिए कहा जो उन्हें और उनके साथ ही साथ पालतू जानवरों के लिए भी भोजन प्रदान करता है। लोगों ने उनका अनुसरण करना शुरू कर दिया और गोवर्धन पर्वत की प्रार्थना करने लगे और जब भगवान इंद्र ने इस कृत्य को देखा, तो उन्हें बहुत गुस्सा आया और परिणामस्वरूप, उन्होंने बारिश शुरू कर दी और यह लगातार 7 दिनों तक जारी रहा।

इसी बीच, भगवान श्रीकृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को अपनी उंगली पर उठाया और वहां के लोगों को आश्रय दिया। परिणामस्वरूप, इंद्र ने अपनी गलती को समझा और पृथ्वी पर आए और भगवान कृष्ण से क्षमा याचना के लिए प्राथना की। 7 दिनों के बाद जब श्री कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को पृथ्वी पर रखा, तब लोगों ने इस अवसर को उत्सव के रूप में मनाने की इच्छा जताई। तब से, लोग इस दिन को अन्नकूट के रूप में मनाते हैं, ऐसा इसलिए भी क्योंकि उनको भोजन देने वाला पहाड़ बच गया।

Share जरूर करें ‼️….
Leave A Comment For Any Doubt And Question :-