छोटी दिवाली पर निबंध-लेख

Facebook
Telegram
WhatsApp
LinkedIn

Choti Diwali 2021: दिवाली से एक दिन पहले छोटी दिवाली मनाने का रिवाज है,  इस साल छोटी दिवाली 4 नवंबर को मनायी जाएगी. छोटी दिवाली नरक चतुर्दशी के दिन मनायी जाती है. 4 नवंबर को शाम 6 बजे से चतुर्दशी तिथि शुरू हो जाएगी, ऐसे में छोटी दीवाली इसी दिन मानई जाएगी. वहीं इस दिन धनतेरस,धनवंतरी जयंती,यमदीप दान और प्रदोष व्रत सभी 4 नवंबर को ही मनाया जाएगा

आखिर क्यों मनाई जाती है छोटी दिवाली, क्या है पूजा का शुभ मुहुर्त और पूजन विधि

मान्यता के अनुसार, छोटी दिवाली की रात में घरों में बुजुर्ग व्यक्ति द्वारा एक दीपक जलाकर पूरे घर में घुमाया जाता है और उस दीपक को घर से बाहर कहीं दूर रख दिया जाता है. इस दिन घरों में मृत्यु के देवता यम की पूजा का भी विधान है लेकिन क्या आप जानते है कि बड़ी दिवाली से ठीक एक दिन पहले छोटी दिवाली क्यों मनाई जाती है, आइए जानते है कि इसके पीछे की कहानी.

इसलिए मनायी जाती है छोटी दिवाली
एक बार रति देव नाम के एक राजा थे उन्होंने अपने जीवन में कभी कोई पाप नहीं किया था, लेकिन एक दिन उनके समक्ष यमदूत आ खड़े हो गए. यमदूत को सामने देख राजा अचंभित हुए और बोले मैंने तो कभी कोई पाप नहीं किया फिर भी क्या मुझे नरक जाना होगा? यह सुनकर यमदूत ने कहा कि हे राजन एक बार आपके द्वार से एक ब्राह्मण भूखा लौट गया था, यह उसी पाप का फल है.

1 thought on “छोटी दिवाली पर निबंध-लेख”

Leave a Comment