Education Loan :- Education Loan Apply कैसे करें

Facebook
Telegram
WhatsApp
LinkedIn

हमारे देश में  हर विधार्थी को शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार हैं,  लेकिन कई बार  शिक्षा करने के लिए आर्थिक परिस्थिति साथ नहीं देती हैं, आज के इस मंहगाई भरे दौर में ये और भी कठिन हो गया हैं . कोई विधार्थी का शिक्षा करने का सपना अधुरा नहीं रह जाये, उनकी  शिक्षा के रास्ते में पैसा रुकावट नहीं बन सके उसके लिए सभी बैंक व् कई अन्य वित्तीय संसथान Education Loan का विकल्प ले कर आये हैं, जिससे सभी को मनपसंद कोर्स और कॉलेज आसानी से मिल सके |
Education Loan नर्सरी से लेकर हायरसेकण्ड्री तक, हायरसेकण्ड्री व् 12th पास करने के बाद ग्रेजुएशन करने के लिए और ग्रेजुएशन करने के बाद पोस्ट ग्रेजुएशन, मास्टर कोर्स, पी.एच.डी, स्किल डेवेलपमेंट और रिसर्च आदि करने के लिए दिया जाता हैं |
Education Loan भी कई तरह के होते हैं जो आपके कोर्स और कॉलेज के आधार पर दिया जाता हैं, भारत सरकार द्वारा भी Education Loan को मोनिटर किया जाता हैं और कई प्रकार के education loan में सब्सिडी की सुविधा दी जाती हैं |

हम इस ब्लॉग में एजुकेशन लोन के बारे में सभी जानकारी जैसे  “education लोन कैसे मिलता हैं ? यह लोन किसे मिलता हैं ? Education Loan कितना मिलेगा? एजुकेशन लोन के लिए क्या योग्यता हैं ? शिक्षा ऋण के लिए क्या जरूरी दस्तावेज हैं ?  शिक्षा ऋण की क्या ब्याज दर रहती हैं ? किस किस कोर्स व् कॉलेज के लिए शिक्षा ऋण मिलता हैं ? “आदि के बारे में विस्तार पूर्वक जानेगे

Education loan कैसे मिलता हैं?

Education Loan लेने के लिए सबसे पहले आपको अपने कोर्स, स्कूल और कॉलेज की मान्यता जानना चाहिए, आपका कोर्स, स्कूल और कॉलेज केंद्रीय व् राजकीय संस्थान से मान्यता प्राप्त होना चाहिए | अमान्यता वाले कोर्स, स्कूल और कॉलेज शिक्षा रिम के पात्र नहीं हैं, मान्यता जानने के लिए आप स्कूल कॉलेज से व् सरकारी पोर्टल पर चेक कर सकते हैं | विदेशों में शिक्षा प्राप्त के लिए भी भारत सरकार व् बैंक पोर्टल पर मान्यता प्राप्त विदेशी कोर्सेज, स्कूल व् यूनिवर्सिटीज की सभी जानकारी उपलब्ध हैं |
Education Loan आवेदन करने के लिए आपको अपने नजदीकी बैंक व् अन्य वित्तीय संस्थान जाना पड़ेगा |

 Education Loan लेने के लिए क्या क्या जरूरी होता हैं ?

  • भारत का नागरिक होना चाहिए.
  • उसकी उम्र उसके एडमिशन वाले कोर्से के अनुसार होनी चाहिए
  • भारत सरकार, राज्य सरकार, AICTE, UGC या विदेश की एप्रूव्ड मान्यता प्राप्त कॉलेज या स्कूल होना चाहिए
  • लोन कि राशि अधिक है तो गारंटर और सांपार्श्विक प्रतिभूति
    (कोलेट्रल सिक्योरिटीज )  देना होता हैं |

हर education loan में माता-पिता या गार्जियन को जरूर जोड़ा जाता हैं, जिससे की लोन सुरक्षित रहे | रु. 4 लाख से अधिक राशि के शिक्षा ऋण में बैंक द्वारा गारंटर लिया जाता हैं,  गारंटर उन्ही को बनाया जाता हैं जिसकी रेपयिंग कैपेसिटी हैं,  इसके लिये  गारंटर कि सैलरी स्लिप व् इनकम टैक्स रिटर्न्स देखे जाते हैं |
और अधिक राशि के लोन पर  कोलेट्रल सिक्योरिटीज देनी होती हैं, जो स्टूडेंट्स, माता-पिता या गार्जियन के नाम पर हो, सांपार्श्विक प्रतिभूति (कोलेट्रल सिक्योरिटीज) में घर, फिक्स्ड डिपाजिट या अन्य सिक्योरिटीज दे सकते हैं | ये सिक्योरिटीज लोन ख़तम होने तक बैंक के नाम बंधक की जाती हैं |

एजुकेशन लोन कितना मिल सकता हैं ?

एजुकेशन लोन के लिए मिलने वाला अमाउंट आपके द्वारा एडमिशन लिए गए स्कूल व् कॉलेज पर निर्भर करता हैं, बैंक व् अन्य वित्तीय संस्थानों द्वारा स्कूल व् कॉलेजेस को अलग अलग केटेगरी में उनकी रेपुटेसन, वैल्यू, कोर्सेज व् मान्यता के आधार पर बाँट दिया हैं, इसी रेटिंग के हिसाब से ही लोन की अधिकतम निर्धारित की गयी है |
भारत में शिक्षा के लिए अधिकतम राशि 80 लाख तथा विदेश में पड़ाई के लिए 1 करोड़ तक का दिया जाता हैं |

Education Loan में मार्जिन कितना देना पड़ता हैं ?

भारत में पड़ाई के लिए 5% से 10% तक का मार्जिन मनी तथा विदेश में पड़ाई के लिए 15% तक की मार्जिन मनी देना पड़ती हैं |

Education Loan में क्या अतिरिक्त खर्चे जोड़े जाते हैं ?

एजुकेशन लोन में आपकी कॉलेज की फीस के साथ ही रहने के लिए हॉस्टल फीस, आपके किताबों का खर्चा, लैपटॉप आदि के खर्चे जोड़े जाते हैं |

एजुकेशन लोन के लिए कौन कौन से डाक्यूमेंट्स देने होते हैं ?

  • आपके पहचान और पते सम्बन्धी डाक्यूमेंट्स जैसे आधार कार्ड, पैन कार्ड, वोटर आईडी कार्ड व् ड्राइविंग लाइसेंस, बिजली बिल आदि |
  • कॉलेज का एडमिशन व् फीस स्लिप लैटर.
  • पास आउट किये गए पिछले क्लासेज जैसे 10, 12, ग्रेजुएशन व् डिप्लोमा आदि की अंक सूची और पासिंग सर्टिफिकेट.
  • लोन में माता, पिता और गारंटर, यदि कोई भी जुड़ा हो तो उनके पहचान और पते सम्बन्धी डाक्यूमेंट्स जैसे आधार कार्ड, पैन कार्ड, वोटर आईडी कार्ड व् ड्राइविंग लाइसेंस, बिजली बिल आदि, इसके साथ साथ सैलरी स्लिप व् इनकम टैक्स रिटर्न्स  भी देने होगे |
  • यदि कोई सांपार्श्विक प्रतिभूति (कोलेट्रल सिक्योरिटीज)हैं तो उसके सभी डाक्यूमेंट्स देने होते हैं |
  • सब्सिडी वाले एजुकेशन लोन में माता पिता या गार्डियन का आय प्रमाण पत्र भी देना पड़ता हैं |

एजुकेशन लोन की ब्याज दर कितनी होती हैं ?

Education Loan में सामान्यतः 8% से 14% तक ब्याज दर होती हैं, जो अलग अलग बैंक व् अन्य वित्तीय संस्थानों में अलग अलग हो सकती हैं | गरीब छात्र गर्ल्स स्टूडेंट्स व् मेधावी छात्रों को ब्याज दर में कुछ रियायत मिल जाती हैं |

Education Loan पर प्रोसेसिंग फीस कितनी लगती हैं ?

एजुकेशन लोन पर 1% से 4% तक की Processing Fees लगती है जो आपको चुकानी होती है |

Education Loan कितने समय में भरना होता हैं ?

शिक्षा ऋण छात्र के पढाई पूरी करने के लिए दिया जाता हैं, स्कूली Education Loan के अलावा अन्य एजुकेशन लोन में बैंक व् अन्य वित्तीय संस्थान इस आशय से लोन देते हैं कि आप अपने कोर्स कम्पलीट करने के बाद अपने पैरो पर खड़े हो जाओगे |
इसी बात को ध्यान में रख कर बैंक व् अन्य वित्तीय संस्थान Education Loan भरने के लिए आपके कोर्स अवधि से अधिक 6 माह से 1 साल बाद तक या आपके नौकरी व् रोजगार शुरू करने के बाद जो भी पहले हो, उस अवधि तक लोन भरने का समय देते हैं यानि आपके लोन की किश्त तभी से स्टार्ट होगी |
यदि आप व् आपके पेरेंट्स सक्षम हैं तो आप लोन की किश्त रेगुलर जमा कराना चाहते तो आप नियमित जमा करा सकते हैं इसके आलावा बैंक व् अन्य वित्तीय संस्थान आपको ये सुविधा भी देते हैं कि आप सिर्फ लोन पर लगने वाला ब्याज भी नियमित जमा करा सकते हैं जिससे बाद में आपको कम अमाउंट की किश्त जमा करनी पड़ेगी |

एजुकेशन लोन के लिए कैसे एप्लाई करें ?

Education Loan एप्लाई  करने के लिए आपको अपने नजदीकी या आपके नियमित बैंक व् अन्य वित्तीय संस्थान पर जा कर उनकी शिक्षा ऋण की सभी नियम व् शर्ते अच्छे से पढ कर आप एजुकेशन लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं, आज कल सभी बैंक व् अन्य वित्तीय संस्थान ऑनलाइन Education Loan आवेदन की सुविधा दे रही हैं, इसके लिए उनकी आधिकारिक वेबसाइट पर जा कर ही आवेदन करें |
एजुकेशन लोन के एप्लाई करने के लिए भारत सरकार द्वारा ऑनलाइन “विद्यालक्ष्मी पोर्टल” बनाया हैं, जिस पर आप Education Loan लेने के लिए किन्ही 3 सरकारी बैंक का चयन कर सकते हैं |

एजुकेशन लोन जमा नहीं करने पर क्या होगा ?

एजुकेशन लोन जमा नहीं करने पर सबसे पहले आपकी, आपके साथ लोन खाते में जुड़े हुये पेरेंट्स, गार्डियन और गारंटर की CIBIL, EQUIFAX, CRIF आदि क्रेडिट रेटिंग नेगेटिव हो जाती हैं, जिससे आपको भविष्य में कोई भी लोन लेने में दिक्कत का सामना करना पड सकता हैं |
जब किसी भी बैंक या वित्तीय संस्थान से एजुकेशन  लोन लेते हैं तो हम उस बैंक या वित्तीय संस्थान से क़ानूनी रूप से वैध डाक्यूमेंट्स पर करारनामा करते हैं, जिसमे लोन लेने व् तय किये गये समय में लोन जमा करने की सहमती देते हैं |
जिस एजुकेशन लोन में किसी प्रकार की सांपार्श्विक प्रतिभूति (कोलेट्रल सिक्योरिटीज) नहीं है, इस प्रकार के लोन में वैध डाक्यूमेंट्स के आधार पर बैंक या अन्य वित्तीय संस्थान लोन के बकाया के लिए न्यायालय जा सकते हैं,  उसके बाद न्यायालय द्वारा निर्णय दोनों पार्टियों को मानना होगा |
जिस एजुकेशन लोन में सांपार्श्विक प्रतिभूति (कोलेट्रल सिक्योरिटीज) ली गयी हैं, उनमे बैंक द्वारा लोन की बकाया राशि जमा करने के लिए सांपार्श्विक प्रतिभूति (कोलेट्रल सिक्योरिटीज) का पजेशन ले कर उस कोलेट्रल सिक्योरिटीज नीलामी करा दी जाती हैं और नीलामी में आये हुयी राशि से लोन की बकाया राशि भर दी जाती हैं, हालाँकि नीलामी होने की प्रक्रिया तक व्यक्ति को लोन जमा करने के लिए कई दिनों का समय दिया जाता हैं |
कुछ विषम परिस्थितियों में एजुकेशन लोन जमा नहीं करने पर बैंक या वित्तीय संस्थान ब्याज दर में कुछ कमी व् एक मुस्त समझौता भी कर सकते हैं |

यदि आपको एजुकेशन लोन की ये जानकारी पसंद आयी हो तो कमेंट में जरूर बताये, एजुकेशन लोन से जुडी और भी कुछ जानकारी के लिए आप कमेंट कर सकते हैं |

धन्यवाद्

Education Loan: इस समय इंजीनियरिंग कॉलेज के साथ तमाम प्रोफेशनल कोर्स में एडमिशन चल रहे हैं. उच्च शिक्षा की पढ़ाई के लिए आर्थिक संकट ज्यादातर छात्रों के सामने आ जाता है. अगर आपके घर का भी कोई पढ़ाई के लिए एजुकेशन लोन लेना चाहता है तो उससे पहले इससे संबंधित सभी जानकारी जानना जरूरी है.

उच्च शिक्षा का खर्च उठा पाना आसान नहीं होता है. ऐसे में आपके पास स्कॉलरशिप (Scholarship for Higher Education) के साथ ही स्टूडेंट लोन (Student Loan In India) लेने का ऑप्शन भी होता है. होनहार छात्रों के लिए यह प्रोसेस काफी आसान हो जाता है (Education Loan Process).

अगर आप उच्च शिक्षा हासिल करने के लिए देश की बड़ी यूनिवर्सिटी में एडमिशन लेना चाहते हैं या विदेश जाना चाहते हैं तो अब आपके लिए राह काफी आसान हो गई है (Higher Education In Abroad). किसी तरह का फाइनेंशियल इश्यू होने पर आप एजुकेशन लोन (Education Loan In India) लेकर भी आगे की पढ़ाई पूरी कर सकते हैं.

एजुकेशन लोन क्या है?
उच्च शिक्षा के लिए किसी बैंक या निजी संस्थान से जो लोन लिया जाता है, उसे स्टूडेंट लोन (Student Loan) या एजुकेशन लोन (Education Loan) कहा जाता है. इस लोन को प्राप्त कर कोई भी छात्र अपनी उच्च शिक्षा का सपना पूरा कर सकता है. अगर आप विदेश मे पढ़ाई करना चाहते हैं तो भी किसी भी बैंक के टर्म्स और कंडिशंस का पालन कर आसानी से लोन ले सकते हैं.

स्टूडेंट लोन कितनी तरह के होते हैं?

आमतौर पर भारत में 4 तरह के स्टूडेंट लोन होते हैं (Education Loan Types)-
1- करियर एजुकेशन लोन (Career Education Loan) – जब कोई स्टूडेंट किसी सरकारी कॉलेज या संस्थान से पढ़ाई करके अपना करियर बनाना चाहते हैं तो करियर एजुकेशन लोन ले सकते हैं.
2- प्रोफेशनल ग्रेजुएट स्टूडेंट लोन (Professional Graduate Student Loan) – ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करने के बाद आगे भी पढ़ाई जारी रखने के लिए प्रोफेशनल ग्रेजुएट स्टूडेंट लोन लिया जा सकता है.
3- पेरेंट्स लोन (Parents Loan) – जब गार्जियन अपने बच्चे की पढ़ाई पूरी करने के लिए किसी बैंक या संस्थान से लोन लेते हैं तो उसे पेरेंट्स लोन कहा जाता है.
4- अंडरग्रेजुएट लोन (Undergraduate Loan) – स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद ग्रेजुएशन की पढ़ाई देश-विदेश में करने के लिए अंडरग्रेजुएट लोन लिया जाता है.

स्टूडेंट लोन कैसे लें?

स्टूडेंट लोन लेने के लिए नीचे दी गई बातों का पालन करना जरूरी है.
1- सबसे पहले बैंक या संस्थान का चयन करें.
2. फिर स्टूडेंट लोन के बारे में सारी जानकारी हासिल कर लें.
3. बैंक द्वारा दिए जा रहे इंटरेस्ट रेट्स को अच्छी तरह से समझ लें.
4. बैंक द्वारा बताए जा रहे सभी नियमों का पालन करें.
5. जब बैंक और आप, दोनों निश्चिंत हो जाएं, तब लोन के लिए अप्लाई करें.

स्टूडेंट लोन के लिए जरूरी हैं ये डॉक्युमेंट्स- 
स्टूडेंट लोन के लिए अप्लाई करने के लिए आपको ये डॉक्युमेंट्स लगाने होंगे (Student Loan Documents)-

>एज प्रूफ (Age proof)
>पासपोर्ट साइज फोटो (Passport size photograph)
>मार्कशीट (Marksheet)
>बैंक पासबुक (Bank passbook)
>आईडी प्रूफ (ID proof)
>एड्रेस प्रूफ (Address proof)
>कोर्स डिटेल्स (Course details)
>अभिभावक और छात्र के पैन कार्ड और आधार कार्ड (Parents and Student’s PAN card and Aadhar card)
>अभिभाक की इनकम का प्रूफ (Parents income proof)

स्टूडेंट लोन के फायदें- 
किसी अन्य लोन की तुलना में स्टूडेंट लोन आसानी से किसी भी बैंक से लिया जा सकता है (Benefits Of Student Loan).

1- इस लोन की मदद से कोई भी छात्र अपने सपने साकार कर सकता है.
2. समय पर लोन का रीपेमेंट करने पर क्रेडिट स्कोर अच्छा होता है, जिससे भविष्य में लोन लेना आसान हो जाता है.
3- आपको लोन राशि लौटाने के लिए काफी समय मिल जाता है.
4- अन्य लोन के मुकाबले इस लोन पर इंटरेस्ट रेट्स कम होते हैं.

Leave a Comment