crossorigin="anonymous"> परियोजना आधारित परियोजनाओं का ब्यौरा » Khan Sir Official
परियोजना आधारित परियोजनाओं का ब्यौरा

प्रदूषण के संदर्भ में मछली/सीप विविधता

परिकल्पना:
कम प्रदूषण स्तर वाले पानी में मछली की प्रजातियों की विविधता कहीं अधिक होती है।
कारण:
किसी खास क्षेत्र में जीवों के विशेष समुदाय मसलन पौधे, मछली या सरिसृप की विविधता का स्तर किन बातों पर निर्भर करता है इस पर कई परिकल्पनाएं हैं। विविधता के उच्च स्तर के लिए पर्यावरण अधिक उत्पादक और स्थिर होना चाहिए। इसी तरह ऐसे पर्यावरण जहां लंबे समय तक समुदायों का उद्भव हुआ हो, वहां भी विविधता का उच्च स्तर होने की उम्मीद की जाती है। अचानक हुए किसी बड़े बदलाव से विविधता का स्तर घटने की संभावना होती है क्योंकि बहुत कम प्रजातियों को नई परिस्थितियों के अनुरूप ढलने का मौका मिल पाता है। हाल के दशकों में देखा गया है कि साफ पानी के बहुत से स्रोतों में प्रदूषक तत्वों का स्तर बड़ी मात्रा में बढ़ा है। ऐसा कस्बों और शहरों के सीवेज का पानी और कृषि उर्वरकों के मिश्रित होने के कारण हुआ है। इन स्थितियों में जहां मछलियों की बहुत कम प्रजाति के फलने फूलने के अवसर होते हैं वहां कुछ शैवाल प्रजाति का बड़े पैमाने पर उद्भव देखा गया है। परिणामस्वरूप उच्च प्रदूषण स्तर वाले पानी में मछली की प्रजातियों की सीमित उपलब्धता की अपेक्षा की जा सकती है।

कार्यप्रणाली:
हमारा लक्ष्य नदी के जल में प्रदूषक तत्वों के स्तर के आधार पर मछली या सीप की उपस्थिति की तुलना करना है। मूठा और मूला नदियों में अपने उद्गम स्थल यानी पश्चिमी घाट के पास प्रदूषण स्तर कम है।

 

Fish/oyster diversity in terms of pollution

Hypothesis:
The diversity of fish species is much higher in waters with low pollution levels.
reason:
There are many hypotheses on what determines the level of diversity of a particular community of organisms, such as plants, fish or reptiles, in a particular area. The environment should be more productive and stable for higher levels of diversity. Similarly, environments where communities have emerged over a long period of time are also expected to have high levels of diversity. Any sudden major change is likely to reduce the level of diversity because very few species have had a chance to adapt to the new conditions. In recent decades, it has been observed that the level of pollutants in many sources of clean water has increased to a large extent. This is due to the mixing of sewage water and agricultural fertilizers from towns and cities. In these conditions, where few species of fish have the opportunity to thrive, the large-scale emergence of some algae species has been observed. As a result, limited availability of fish species can be expected in waters with high pollution levels.

modus operandi:
Our goal is to compare the presence of fish or oysters based on the level of pollutants in the river water. The Mutha and Mula rivers have low pollution levels near their origin, the Western Ghats.

Share जरूर करें ‼️….
Leave A Comment For Any Doubt And Question :-